International Journal of Hindi Research


ISSN: 2455-2232

Vol. 3, Issue 6 (2017)

प्रवासी भारतीय साहित्यकार सुषमा बेदी के कथा साहित्य का अध्ययन

Author(s): प्रणिता लक्ष्मणराव पाटील
Abstract: लोग प्राचीन काल से अपना देश छोड भ्रमण करते है। कोई काम के लिए, कोई संत अपने विचारों से लोगों को जागृत करने के लिए ऐसे कई कारण होते हैं । आज आधुनिक यूग में यूवा वर्ग दूसरे देश में जाकर वहाँ काम करता है। आज तो भारतीय लोग प्रवासी जीवन जी रहे है। प्रवासी भारतीय लोग कूछ साहित्यिक विधा पर अपनी कलम चला रहे है। उनका साहित्य उनके भोगे हुए या अपने स्वयं के साथ घटित घटनाओं का वर्णन हो सकता है या उनके सामने हुई घटनाओं का। परन्तु प्रवासी भारतीय साहित्य में यथार्थता दिखाई देती है। ऐसी ही एक प्रवासी भारतीय साहित्यकार जो कथा साहित्य में प्रसिध्द है उनकी रचनाओं का थोडाबहूत जो अध्ययन हुआ है और उनके विचारों से जो प्रभाव मिलता है उसका संक्षिप्त रुप आगे स्पष्ट होता है।
Pages: 27-29  |  1259 Views  381 Downloads
library subscription