International Journal of Hindi Research


ISSN: 2455-2232

Vol. 5, Issue 4 (2019)

हड़प्पा काल में विज्ञान और प्रोद्यौगिकी

Author(s): डाॅ0 अंजली अवस्थी
Abstract: आधुनिक काल की भांति हड़प्पा काल में भी भारतीयों ने विज्ञान और प्रोद्यौगिकी के क्षेत्र में काफी उन्नति की। हमें प्राचीन ग्रन्थों व अन्य साक्ष्यों से हड़प्पा काल के धातु, कृषि, उद्योग, चिकित्सा, रसायन व खगोल विज्ञान आदि के विषय में विस्तृत जानकारी प्राप्त होती है। लोगों को आर्सेनिक, सीसे एवं टीन से तांबे की मिश्र धातु बनाने में सिद्धहस्तता थी। सोने के मनके, लटकन, बाजूबंद, जड़ाऊ पिन और सुइयां आदि तथा सबसे प्राचीन चांदी भी यहाँ से प्राप्त हुई है। खेती मुख्यतः गेहूं और जौ की पैदावार अच्छी थी। सर्वप्रथम कपास की खेती यहीं से प्रारम्भ हुई। चाँदी, सोने और कीमती पत्थरों के आभूषण निर्माण प्रमुख उद्योग और व्यवसाय था। शंख का प्रयोग भीया जाता था। मनको के निर्माण का उद्योग भी उन्नत अवस्था में था। चिकित्सा के लिए औषधियों का प्रयोग होता था। संभवतः हरिण की सींगों का चूर्ण बनाकर कुछ रोगों का समाधान कराते थे। मोहनजोदड़ो में शिलाजीत भी मिला है। शिलाजीत का उपयोग आज भी बल बढ़ाने के लिए होता है। हड़प्पा और मोहनजोदड़ो में कुछ स्थानो पर ऐसे छोटे छोटे आयताकार पिंड मिले हैं, जो स्पष्टतया तौलने के बाट थे। हड़प्पा काल से अन्य पदार्थ जैसे हरितश्म या वैदूर्य, अमेज़न मणि, स्फटिक या क्वार्ट्ज़, नीलम या एमेथिस्ट, स्लेट, जेड या जेडाइट, गेरू या लाल ओकर, हरित-मृतिका, हांथीदांत, फाएन्स और अवलेप आदि भी प्राप्त हुए हैं। गणित विज्ञान की प्रगति का प्रथम परिचय हड़प्पा काल के अवशेषों से प्राप्त होता है। उस समय भवन के निर्माण, राज्यमार्गों की रचना, वाणिज्य-व्यापार और नाप-तौल के लिए गणित का प्रयोग अवश्य होता होगा। वहाँ चित्रों के बनाने में ज्यामिती का प्रयोग उच्च कोटि का था। हड़प्पा-सभ्यता के लोगों की आर्थिक दशा अच्छी थी। विभिन्न उद्योगों के विकास तथा वाणिज्य के फलस्वरूप वे समृद्ध हो गये थे। अपने समीपस्थ तथा दूरस्थ लोगों से इस सभ्यता के लोगों ने स्थल और जलमार्ग से सम्पर्क स्थापित किये। इस प्रकार हड़प्पा काल में विज्ञान और तकनीकी का पर्याप्त विकास हो चुका था। यह एक विकसित सभ्यता थी। हड़प्पा काल के लोगों ने अपनी विशिष्टता का परिचय अनेक क्षेत्रों में दिया तथा विश्व के सामने एक अनोखा उदाहरण प्रस्तुत किया।
Pages: 01-03  |  624 Views  376 Downloads
library subscription