International Journal of Hindi Research

International Journal of Hindi Research

ISSN: 2455-2232

Vol. 5, Issue 4 (2019)

रामचंद्र शुक्ल की आलोचक अंतर्दृष्टि और जायसी

Author(s): डॉ. वंदना यादव
Abstract: हिन्दी साहित्य के इतिहास और आलोचना दोनों को व्यवस्था देना का कार्य आचार्य रामचंद्र शुक्ल की आलोचना दृष्टि को देना चाहिए । जिनमे उनके आलोचनात्मक प्रतिमानों ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा की । लोकधर्म, विरूद्धों का सामंजस्य के साथ-साथ भक्तिकाल के संदर्भ में मानवीयता को श्रेष्ठ काव्य की कसौटी के रूप में देखना रहस्यवाद को नए संदर्भों में परखना, हिन्दी साहित्य को प्रस्थान बिन्दु मुहैया कराता है ।
Pages: 40-44  |  71 Views  45 Downloads
International Journal of Hindi Research
Journals List Click Here Research Journals Research Journals