International Journal of Hindi Research

International Journal of Hindi Research


International Journal of Hindi Research
International Journal of Hindi Research
Vol. 6, Issue 5 (2020)

आधुनिक जीवन में असाध्य रोगों पर योग का प्रभाव


जगदीप

आधुनिक समय में अनेक प्रकार के रोग पैदा हो रहे हैं तथा ये रोग चिकित्सा समुदाय के लिए भी एक पहेली बने हुए हैं जैसे कि आधुनिक समय में कोविड-19, मैं समझता हूं ये रोग पहेली तब तक बने हुए हैं जब तक हम इनके पैदा होने के मूल कारणों को सही से नहीं समझ पाते हैं। यदि हम इन के पैदा होने के मूल कारणों को सही ढंग से समझ पाएं तथा सभी रोगांे मंे आपस मंे सह संबंध स्थापित कर पाएं तो कोई भी रोग असाध्य नहीं है। सभी रोगों का मूल कारण कफ, पित्त व वात का हमारे शरीर में असंतुलन ही है और इस असंतुलन को हम श्रम, संयम, भोजन, शोधन और सामाजिक परिवेश में संतुलन स्थापित करके दूर कर सकते हैं इसकों दूर करने के लिए हमें योगांगों को ठीक तरह से समझना पडे़गा। तथा योग के त्रिस्तंभ आहार निद्रा और ब्रह्मचर्य में सह संबंध स्थापित करना पडे़गा यदि हम ऐसा कर सकते है तो हम अपने शरीर मन वह बुद्धि को नियंत्रित व संयमित रख सकते है तथा हम किसी भी प्रकार के रोग के ऊपर विजय प्राप्त करने में अपनी अहम भूमिका अदा कर सकते हैं।
Pages : 40-41 | 280 Views | 77 Downloads