International Journal of Hindi Research

International Journal of Hindi Research


International Journal of Hindi Research
International Journal of Hindi Research
Vol. 6, Issue 6 (2020)

त्रिलोचन के काव्य में मुक्ति का राग


कमलेन्द्र कुमार सतनामी

त्रलोचन घटनाओ के कवि नही है वे मूल्यो के कवि है। उनकी कविता, हमारे विराट सामाजिक जीवन की बाहुल विविधताओं से युक्त है उन्होने अपनी कविताओं में मानवाीय अनुभवो और जीवन-दशाओं की अभिव्यक्ति करते हुए, संघर्ष, आस्था, विविधता, प्रेम, न्याय और स्वतत्रंता जैसे जीवन मूल्यो को हमारे समक्ष प्रस्तुत किया है।
Pages : 109-110 | 170 Views | 39 Downloads