International Journal of Hindi Research

International Journal of Hindi Research


International Journal of Hindi Research
International Journal of Hindi Research
Vol. 6, Issue 6 (2020)

उर्मिला शुक्ल का व्यक्तित्व और कृतित्व


शिल्पी कुमारी, डाॅ. रेशमा अंसारी

हिन्दी साहित्य को समृद्ध करने में छत्तीसगढ़ राज्य के साहित्यकारों की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही है। इनमें प्रसिद्ध महिला साहित्यकार डाॅ. उर्मिला शुक्ल के योगदान को भी विस्मृत नहीं किया जा सकता जिन्होंने ने हिन्दी के साथ-साथ छत्तीसगढ़ी साहित्य को भी समृद्ध किया है। उनकी अधिकांश रचनाओं नारी केद्र में है किन्तु उन्होंने ने छत्तीसगढ़ राज्य के प्राकृति वैभव, राज्य की संस्कृति, लोकगीतों और विभिन्न सामाजिक
समस्याओं को भी अपनी रचनाओं के माध्यम से अभिव्यक्त किया है। उनकी रचनाओं में उनके व्यक्तित्व की भी स्पष्ट झलक देखने को मिलती है। प्रस्तुत शोध पत्र में उर्मिला जी के व्यक्तित्व और कृतित्व पर सारगर्भित प्रकाश डालने का प्रयास किया गया है।
Pages : 118-119 | 451 Views | 309 Downloads