International Journal of Hindi Research

International Journal of Hindi Research


International Journal of Hindi Research
International Journal of Hindi Research
Vol. 2, Issue 4 (2016)

प्रवासी हिन्दी साहित्य लेखन के विविघ आयाम


सोनिया राठी

प्रवासी भारतीय जो संवेदनशील थे, उन्होंने विदेश में अपने प्रवास के दौरान आने वाली समस्याओं को, अपने आस-पास घटित घटनाओं को अपनी कलम के माध्यम से साहित्य द्वारा उजागर किया। अपने विचारों, अपनी सोच, दृष्टिकोण, चिंतन, व मान्यताओं द्वारा लेखन कार्य प्रारम्भ किया। अपने सामाजिक परिवेश से व परिस्थितियों से प्रभावित हो कर अलग-अलग विषयों में साहित्य की रचना की। यहीं से ‘प्रवासी हिन्दी साहित्य’ का ‘श्री गणेश’ हुआ।
Download  |  Pages : 38-40
How to cite this article:
सोनिया राठी . प्रवासी हिन्दी साहित्य लेखन के विविघ आयाम. International Journal of Hindi Research, Volume 2, Issue 4, 2016, Pages 38-40
International Journal of Hindi Research