International Journal of Hindi Research

International Journal of Hindi Research


International Journal of Hindi Research
International Journal of Hindi Research
Vol. 2, Issue 6 (2016)

नारी अस्मिता की पहचान “मीरा याज्ञिक की डायरी” के संदर्भ में


डॉ0 सूर्या बोस

सामान्य नारी की मनस्थिति पर विचार करना जितना आसान समझते है; उतना आसान नहीं है। हरेक स्त्री की अपनी कहानी होती है, अपना अनुभव होता है। अनुभवों का आधार सामाजिक संरचना तथा स्थिति होते है। परिस्थितियाँ व्यक्ती की नियंता होती है। एकाकी स्त्रियों की पीड़ा क्या होती है, उनकी मानासिकता कैसी होती है उसका पहचान बिंदु भट्ट का लघु उपन्यास “मीरा याज्ञिक की डायरी” की मीरा, वृंदा, मीरा की माँ आदि की अवस्था से गुजरने के पश्चात हमें मालूम होता है।
Pages : 12-13 | 1714 Views | 471 Downloads