International Journal of Hindi Research

International Journal of Hindi Research


International Journal of Hindi Research
International Journal of Hindi Research
Vol. 4, Issue 2 (2018)

चित्रा मुद्गल के उपन्यास ‘गिलिगडु’ में अभिव्यक्त वृद्ध जीवन


Dr. P Ganesan, Lakshmidevi K

आधुनिक हिंदी साहित्य में 1960 के बाद महिला साहित्यकारों ने अपना अलग स्थान निर्माण किया है। नारी अपने तथा समाज की अन्य नारियों की अनुभवों को शब्दबद्ध करने लगी।
Download  |  Pages : 23-24
How to cite this article:
Dr. P Ganesan, Lakshmidevi K. चित्रा मुद्गल के उपन्यास ‘गिलिगडु’ में अभिव्यक्त वृद्ध जीवन. International Journal of Hindi Research, Volume 4, Issue 2, 2018, Pages 23-24
International Journal of Hindi Research International Journal of Hindi Research