International Journal of Hindi Research

International Journal of Hindi Research


International Journal of Hindi Research
International Journal of Hindi Research
Vol. 7, Issue 5 (2021)

आवां तथा पीली आँधी में स्त्रीविमर्श


प्रीती अहिर

भारतीय समाज में आदिकाल से ही नारी के मान-मर्यादा की बात आती है तो लोगों की सोच में दोहरापन आ जाता है। आर्थिक और सामाजिक तौर पर स्त्री के अधिकारों का संघर्ष सामाजिक, राजनैतिक और आर्थिक स्तर पर अलग-अलग है। समाज और परिवार में एक मनुष्य के रूप में मान्यता प्राप्त करना ही उसका उद्देश्य है। परिवार के बंधनों के कारण नारी के पास न तो कोई विकल्प रहता है, न चुनाव की क्षमता। एक स्वाभिमान ही है जो किसी निर्बल या अबला स्त्री को भी मोम से फौलाद बना देता है।
Download  |  Pages : 46-49
How to cite this article:
प्रीती अहिर. आवां तथा पीली आँधी में स्त्रीविमर्श. International Journal of Hindi Research, Volume 7, Issue 5, 2021, Pages 46-49
International Journal of Hindi Research